Prabha Khanna, Toronto, Canada

पूज्य गुरुजी, हरी ओम्। श्री कमल चरणों में प्रणाम।
आपके जन्म दिवस के सुअवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएँ स्वीकार करें।
वैश्विक महामारी के आगमन होते ही। आप निरंतर हमें शास्त्रों की शिक्षा डे रहे हैं।
दो आदर्श बालकों के माध्यम से पहले हमें आत्मतत्त्व का ज्ञान कथा उपनिषद के नचिकेता और फिर श्रीमद् भागवत की अपूर्व प्रह्लाद स्तुति से भक्ति का परिचय कराया।
विनीत भाव से मेरी क्रतग्यता व धन्यवाद स्वीकार करें।
प्रार्थना है के हम सब पर आपकी ऐसी ही कृपा बनी रहे।
देर के कारण क्षमा याचना।
श्री चरणों में प्रणाम
प्रभा

Comments are closed.